ऐ ज़िंदगी तेरे सफर से शिकायतें बहुत थी


Post a Comment

0 Comments