तेरे सिवा किसी और की जुस्तजू भी न रह


Post a Comment

0 Comments