तुम और मैं ही हैं इस दश्त-ए-तन्हाई मे


Post a Comment

0 Comments